Home रिव्यूज Roohi Movie Review: एक बार फिर चला राजकुमार राव का जादू

Roohi Movie Review: एक बार फिर चला राजकुमार राव का जादू

2224

Roohi Movie Review :

फिल्म : रूही

कलाकार : राजकुमार राव, जान्हवी कपूर,वरुण शर्मा।

डायरेक्टर : हार्दिक मेहता

केटेगरी : हिंदी,हॉरर कॉमेडी

अवधि : 2hrs 25min

कहानी : फिल्म की कहानी कुछ इस तरह है, ‘रूही'(Roohi) की कहानी एक छोटे से गांव बांगरपुर से शुरू होती है। भूरा पांडेय (Rajkumar rao) और कट्टनी कुरैशी (varun sharma) दोनों एक लोकल रिपोर्टर है। कुछ अजीब परिस्थितियों में वो दोनों रूही (Janhvi Kapoor) के साथ फंस गए है। रूही (Roohi) को देखकर पहले यही लगता है की वो एक सीधी साधी सी लड़की है। बाद में रूही (Roohi) का दूसरा रूप भी बाहर आता है जिसका नाम ‘आफ्जा’ है। फिर भूरा को रूही से और कट्टनी को आफ्जा से प्यार हो जाता है। कहानी यही से आगे बढ़ती है।

अब भूरा,आफ्जा से छुटकारा पाना चाहता है पर कट्टनी ऐसा नहीं चाहता। कट्टनी चाहता है आफ्जा भी रूही (Roohi) के साथ रहे ताकि उसका प्यार उससे अलग ना हो। दोनों दोस्तों की रूही (Roohi) और आफ्जा के लिए मारपीट भी हो जाती है। अब भूरा और कट्टनी अलग अलग तरह की तरकीब निकलते है ताकि उनका प्यार उनसे दूर ना हो। लेकिन ये तरकीबें उन्ही पर भरी पड़ जाती है। और बहुत सी समस्याएं आने लगती है। इस फिल्म में आपको कॉमेडी भी दिखाई देगी जो आपको हसने पर मजबूर कर देगी। फिल्म में आगे क्या होता है, भूरा को उसका प्यार मिलता है या नहीं और कट्टनी के प्यार का क्या होता है। इन तमाम सवालों के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी।

रिव्यु:राजकुमार राव (Rajkumar rao) ने एक फिर साबित कर दिया की वो एक बेहतरीन कलाकार है,उनकी एक्टिंग कमाल की है। वरुण शर्मा (varun sharma) की कॉमिक टाइमिंग कमाल की है। उनके हाव भाव देख आपकी हंसी छूट जाएगी। जान्हवी कपूर (Janhvi Kapoor) ने भी रूही (Roohi) और आफ्जा दोनों ही किरदारों को बेहतरीन तरीके से निभाया है। तीनो ही कलाकार दर्शकों को निराश नहीं करेंगे।

फिल्‍म के म्‍यूजिक की बात करें तो ‘नदियों पार’ और ‘पनघट’ ये दो गाने मुख्‍य हैं। ये दोनों ही गाने फिल्‍म की शुरुआत और अंत में क्रेडिट्स के साथ दिखाए गए हैं। सचिन-जिगर का संगीत फिल्‍म खत्‍म होने के बाद ही दर्शकों के साथ रहता है। कुल मिलाकर, फिल्‍म हॉरर-कॉमेडी है और इसके साथ न्‍याय भी करती है। फिल्‍म में अच्‍छा खासा एंटरटेनमेंट का डोज है और थ‍िएटर में बैठकर बड़े पर्दे पर दोबारा किसी फिल्‍म का लुत्‍फ उठाने के लिहाज से भी अच्‍छा विकल्‍प है।